Difference Between Ram and Rom in Hindi

Difference-Between-RAM-and-ROM-TYPES

Difference Between Ram and Rom in Hindi

हेल्लो, दोस्तों स्वागत है आपका Ascott Infotech & Security System में RAM और ROM का पता तब चलता है जब आप कोई mobile खरीदते हैं या laptop खरीदते हैं।  तो आप दुकानदार को जरुर पूछते है कि इसमें कितने GB RAM हैं। आजकल आपने RAM और ROM के बारे में बहुत सुना और देखा होगा और आप ज्यादतर फ़ोन की Specifications में RAM और ROM नाम ज्यादा दिखाई देता होगा जैसे कि इस फ़ोन में  3 GB RAM है और 16 GB ROM है और RAM|

RAM kya hota hai

Random Access Memory यह RAM का full form है | यह किसी भी computer या device के लिए सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है और RAM का इस्तमाल हम कोई भी Data Store करने के लिए करते है | जब हमारा mobile या computer ऑन होता है या काम कर रहा होता है तब मोबाइल/कंप्यूटर के बंद हो जाने पर Ram का सारा डाटा मिट जाता है |

RAM kya hai or kya kam karta hai

RAM में data सिर्फ तब तक save रहता हैं | जब तक इसमें पावर सप्लाई  रहती है  जैसे ही पावर सप्लाई बंद हो जाती है | तो आपका डेटा डिलीट हो जाता है | RAM की स्पीड बहुत ही फ़ास्ट होती है |RAM data स्टोर करने के लिए transistors का  इस्तेमाल करता है।

RAM ki kya kya visheshtaye hai (characteristics of RAM in Hindi )

RAM के बारे में तो आपको पता होगा लेकिन आज हम आपको इसके Properties के बारे में  महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले है |

RAM volatile Memory है | RAM ज्यादा मंहगी होती है और मेमोरी की तुलना में | जब बजली बंद हो जाती है तो आपका डाटा खाली हो जाता है | इस memory को CPU इस्तमाल करता है | RAM को computer की working memory भी कहा जाता है |

  RAM कितने प्रकार की होती है ? वैसे तो RAM दो प्रकार की होती है | 
  1. Static RAM
  2. Dynamic RAM 

Static RAM

Static ram का मतलब है की इसमें डाटा तब तक रहेगा जब तक इसमें बिजली आती रहेगी | इसको आप SRAM भी कह सकते है  यह 6 प्रकार के transistor का इस्तमाल करता है और इसको बार बार Refresh करने की जरूरत नही होती  है | इसमें डाटा स्थिर रहता है  समान site के डाटा को store करने के लिए इसलिए SRAM को बनाने में ज्यदा पैसा लगता है |

Characteristic or SRAM in Hindi

यह बहुत दिन तक चलती है |

इसको Refresh करने की जरूरत नही होती है |

यह काफी तेज है |

यह महगी है दूसरें की तुलना में |

Dynamic RAM

इस ram को हम DRAM भी कहते है और यह SARM के बिल्कुल ही विपरीत है | इसको Refresh करने की जरूरत होती है | अगर आपको इस में डाटा को बरकरार रखना है तो यह केवल तभी सम्भव हो सकता है | जब इस memory को एक रिफ्रेश CIRCUIT के साथ जोड़ा जाये |

Characteristic or DRAM in Hindi

यह बहुत समय तक चलता है |

इसको Refresh करने की जरूरत होती है |

यह काफी घीमी है |

इसका  size कम होता  है |

इसमे कम power चाहिए |

यह महंगी है दूसरों की तुलना में |

 

Difference-Between-RAM-and-ROM-TYPES-ascottonline

ROM kya hoti hai

ROM का full form ( Read Only Memory ) होता है Computer  सिस्टम का प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस ROM होता है | और इसका आकर CHIP की तरह होता है | यह Computer के motherboard से जुड़ा होता हैं और computer से डाटा को भेजने के काम आता है| ROM  में आप लिख नही सकते है और ROM से data को send नही कर सकते है | RAM और ROM दोनों ही हमारे फोन की memory होती है | RAM और ROM दोनों को अच्छी तरह से समझने के लिए मैं आपकों इन के बारे में अलग अलग बता रहा हूँ | इस मेमोरी में  हम अपने मनपसन्द  Application,  Music, Data, File, Game आदि डाउनलोड कर सकते है |

ROM kya hai or kya kam karta hai

ROM की Speed RAM से बहुत ही कम होती है

RAM और ROM में Price में भी बहुत ही ज्यादा अंतर होता है | जिसमें  RAM ज्यादा  होती है और इसको बनाने में खर्च ज्यादा आता है |

ROM ke types

(MROM)Masked ROM 

यह तब काम आता है जब चिप को बनाया जाता है और टीबी मै इसका  डाटा लिखा जाता है |

(PROM)Programmable Read Only Memory

इस को साल मै केवल एक बार ही बदला जा सकती है ।

(EPROM)Erasable and Programmable Read Only Memory

इस को केवल पराबैंगनी किरणों द्वारा ही बदला जाता है |

(EEPROM)Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory

यह केवल एलेक्ट्रिकली  हटाया जा सकता है।

Conclusion

दोस्तों आज हमने आपको difference between ram and rom in computer के बारे में जानकारी दी है। अगर आप कोई सवाल पूछना चाहते है तो निचे comment box में दे सकते है। अगर आपको  RAM installation  के लिए आप हमारी Shop की मुलाकात जरुरु ले। हम आपको service provide करेंगे।